बुधवार, 29 अप्रैल 2009

खुशियाँ...!!!

तरसता हूँ,
खुशियों को तरसता हूँ,
जो यूँही कभी दिख जाती हैं,
जो यूँही मुझे मिलती नही,
तरसता हूँ,
ऐसी हर खुशी को तरसता हूँ.....!!!!


जब देखता हूँ,
सड़क के उस पार खड़ा लड़का,
अठन्नियां और चवन्नियां बटोरता,
अपनी मुठ्ठी औरों के सामने खोलता,
कभी अपनी छत कभी अपनेआप को खोजता,
एक दिन आसमा को देखता है,
जब बारिश होती है,
उसकी मुठ्ठी ख़ुद के लिए खुलती है,
बारिश को बटोरती है,
होठों पर ही नही आंखों में भी मुस्कान ठहर जाती है,
ऐसी किसी खुशी को तरसता हूँ,
हाँ सच मैं तरसता हूँ...!!!


जब देखता हूँ,
वो छोटा सा बच्चा,
स्लेटी रंग की मटमैली सी बनियान पहने,
जो कभी सफ़ेद थी, नई थी,
किसी और ने पहनी थी,
आज पुरानी है,
कुछ ज़्यादा ही फटी सी है,
उसे पहने वो उस कटी पतंग के पीछे भागता है,
छ साल के बच्चे के अन्दर का नौजवान जागता है,
जब कटी पतंग डोर सहित उसके हाथो में आती है,
वो मुस्कुराता है,
अपने चार पसलियों वाले सीने को फुलाता है,
मैं तरसता हूँ,
ऐसी खुशी को तरसता हूँ,


जब देखता हूँ,
वो छोटी मासूम सी लड़की,
फटे पुराने कपडो में लिपटी,
अपने गुड्डे के लिए नए कपडे खोजती है,
क्योंकि कल उसकी सहेली की गुडिया से गुड्डे की शादी है,
वो पूरा घर खंगाल लेती है,
नया तो दूर पुराना भी नही पाती है,
दौड़ के जाती है अपनी तिजोरी, मुहल्ले के उस ढेर की तरफ़,
जहाँ बाकी सारी दुनिया के शौक़ फेंके गए हैं,
वहां से सबसे नयावाला पुराना कपडा उठाती है,
सुई धागा नही पाती, तो झाडू की सींक उठाती है,
छेड़ कर, धागा डालती है, फ़िर उसी में गाँठ लगाती है,
गुड्डे को दोनों हाथों में पकड़ कर ऊपर उठाती है,
उसकी आँखें चमकती है, रोम रोम मुस्काता है,
मैं तरसता हूँ,
ऐसी खुशी को सच तरसता हूँ...!!!

8 टिप्‍पणियां:

neha ने कहा…

ShaNtAnU Ji aAj BAhuT diNo baAD aAp kI bLog ViSit kARI aur do nayie kavitayie padhne ko mili , pehle maine "khushiya" padhi aur laga kya khoobsurti se aap ne shabdo ka jaal beechaya aur itne halke se bahut gehri baat keha daali saachi asli bharat ki tasveer dikhati hai aap ki ye kavita aur ye bhi ehsaas dilati hai ki khushiya kharidi nahi ja sakti... aur har kisi ko aapne hisse ki khushiya mil jati hai bass roop alag hota hai.. khair isse pehle mai ek kahani likha doo bahut sari shubhkamnayie aap ko ..take care keep smiling..

pratibha ने कहा…

Bahut sundar. SAHNTANU you have power of expression and senstivity. These are the key words of writing. don't stop writing ever...bless you.

अभिषेक ने कहा…

आपके कविता के आखरी पैराग्राफ हेतु कुछ प्रयास कर रहा हूँ..
जब देखता हूँ उस पंद्रह वर्षीय किशोर को..
देर रातों तक यूं ही जगते हुए..
किसी के याद में बेजां सा तपते हुए..
वो कागज़ के पुर्जों पर बार बार उसका नाम लिखना.
फिर किसी के देख लेने के डर से..
उस नाम को स्याही के आगोश में छुपाना..
वो बार बार खतों को लिखना
फिर उन्हें फाड़ देना..शायद और बेहतर लिखने की सोच से.
वो घंटों शीशे के सामने गुजारना..
ज़िन्दगी के इस भाग दौड़ में..मैं थक जाता हूँ..
हाँ..मैं तरसता हूँ..उन खुशियों के लिए तरसता हूँ.

अभिषेक ने कहा…

कभी घर पर आती थी...वो बूढी दाई माँ..
हमारे झूठे बर्तनों में अपनी रोटियाँ तलाशते हुए..
जितनी शिकायत थी हमें ज़िन्दगी के हर निवाले में..
वो खुशियाँ लूटती थी चाय के उस एक प्याले में....
कभी माँगा नही उसने कुछ मुझसे..
शायद ज़िन्दगी का हर सामां था उसके पास..
जिन बेटों ने उससे कभी मुह मोड़ लिया...
उसे आज भी थी उनके लौट आने की आस ....
ज़िन्दगी के इस सफ़र में...
वो बूढी दाई माँ तो काफी पीछे छूट गयी हैं..
वो अक्सर सपनों में आती हैं
हंसती हैं,मुस्कुराती हैं,हौसला बढाती हैं..
खीजता हूँ,चीखता हूँ..काले बादलों सा बरसता हूँ...
हाँ,मै तरसता हूँ..उन खुशियों के लिए तरसता हूँ..

बेनामी ने कहा…

Pata hai kya shAntanu g ....apki kavita hamesha jeevann k tamaaam phluwon se mujhKO ek naye roop aur ek naye rang main mujhse milwati hai....."KHUSHIYAN" padkr jahan ek khushi ki lahar daudti hai to wahi aapki kavita "HAWA" padkr ek sukoon sa hota hai........lekin is kavita yaani k khushi ka naam sunkar jahan ek taraf man khush hota hai to wahi dusri taraf ek dukh hota hai.....kyunki maine khushi ke saaye main jahan logon ko hanste dekha hai whi unhe yaad krte hue kabhi logon ko rote b dekha hai....isi pr ek choti si koshish meri b hai ....meri soch is maamle main kabhi kabhi apna hi ek alag ehsaas bunti nazar aati hai......


HAR LAMHE HR PAL MAIN CHUPI SI RAHTI KHUSHI,
JEEVAN KO NAYE UMANGON SE HR DIN BHARTI KHUSHI,
HAI JAB KISI KO KABHI GUDGUDATI SI YE,
TAB KYUN KABHI KHUD USKO HI RULATI KHUSHI.....



KAL K SAMAY KO YAADKR AAJ BHI HANSTA HAI WO,
UN YAADON MAIN AAJ BHI.. KHO SA KAHIN JATA HAI WO,
WO SHARARTEN WO BACHPANA WO KRNA AKSAR NADAANIYAN,
KRTA THA JID KHTA THA WO MAA SUNAO NA KAHANIYAN,
GOD MAIN USKE TB RAKHKE SIR APNA KHO SA KAHIN JATA THA WO,
MAA KI BAAT AUR KAHANI SUN SAARE GAM APNE BHUL JATA THA WO,
MAA KA MAATHA CHUMNA YAAD FIR AATA USE,
WO PYAAR SE SIR PAR SHLAANA HAATH AAJ BHI RULATA USE,


IN SAARI KHUSHIYON SE DUR WO ,AAJ KHIN TANHA SA HAI,
ROTA HAI WO ...
NA PAAS WO SAAYA HAI,NA WO HAAATH HAIN,
NA WO KAHANIYAAN HAIN AUR NA WO LORI WAALI RAAT HAI



KABHI KABHI WO PUCHTA BAITHTA HAI US KHUDA SE----------

KYUN MUJHE KHUSHI DI ITNI JINHE YAAD KR MAIN PAL BHAR HANSTA HUN,
AAJ B JAB YAAD AATE HAIN WO MAIN SOCH KR HI ROTA HUN,
AANSUN BHI BEHKAR SUKH CHUKE HAIN MERE,
DARD SE TO AB RISHTA SA BAN GAYA,
KHUSHIYON NE B NA JANE KYUN BS MUH SA HI HAI JAISE FER LIYA,




TAB USKE MAN SE EK AWAAZ SI AATI HAI-----------



NA HUA JO SAATH UNKA HAATH TO KYA ,,,,
WO EHSAAS TO MERE PASS HAI,
DIKHTI NAHIN WO AAJ TO KYA UNKA SAAYA TO HARPAL HI SAATH HAI,
YUN HI WO MERE SAATH RHENGI HAMESHA YE JAANTA HUN MAIN.....
KYUN ABHI TK KRTA THA MAIN SHIKAYTEN KHUDA SE ,,,
SACH ,IN SBSE KITNA ANJAAN THA MAIN..............


aur haan ek baat sory yaar.... apki kavita jahan khushi ka ehsaas kara rhi hai pr meri is kavita main to khushi ne b dard ka chadar oda hua hai.......

Gaurav. ने कहा…

Great piece of work Shantanu ! I simply loved this one. You are right, hum sab khusiyon ke liye taraste hain! Lekin ek badi khushi ya bada pane ke chakkar mai, bhool jaate hain kee jindagi .. unn choti choti khushiyon/palon se bani hai, jinhe hum kai baar nazarandaz kar dete hain. Thanks for reminding that those bful moments are the ones that make life worth living. Mai bhee unn khusiyon ko tarasta hoon.

kritika ने कहा…

me bahut achha to nahi likh sakti lakin ...haan bas jo khushiyan aapne hume batai.. bas ager hum sab jinke paas ye khushiyan hain... unke baare me ek baar soche aur..koshish karen ki unhe hum apni khushiyan jo ki hamare paas hain.. vo unhe dene ki.. ya phir unki khushiyon me unka saat dene ki koshish kare to shyad hum bhi apne hone ka mahtva samejh paye..

PRATIGYA SHUKLA ने कहा…

choti choti khushiyon ka ehsas krati ye puri kavita hi bht acchi hai bt 2nd stanza is really soooo nice.........